श्री
वा
सु
दे
वा
नं
स्व
ती
स्वा
मी
ति
मां
वा
चि
खें
रो
त्त
प्त
चिं
स्थ
जे
नं
ना
री
ले
पा
सु
तां
हो
नि
ना
का
ता
चि
चि
चि
ला
त्रि
पू
रा
चिं
हि
दे
का
तो
सं
व्य
ती
वा
त्ते
क्षा
गा
गीं
का
जीं
ति
वा
प्त
र्य
पा
गु
सु
त्र
पं
तीं
हृ
के
सं
ष्ट
टें
सु
रु
दे
त्त
यी
म्ह
त्य
वा
दु
दो
सि
सि
सा
ये
वा
चं
सा
सो
स्सा
न्द
यीं
द्धी
द्धी
रीं
च्या
री
रि
ने
पू
र्थ
दी
शी
सी
त्त
ळा
ध्य
त्त
चिं
का
वा
स्म
त्रा
ग्रं
जी
किं
ने
पू
प्रा
तु
सु
त्त
री
चीं
प्रे
वा
वा
ष्टा
रु
मा
जी
रि
र्थ
नी
श्लो
जी
दे
हे
चिं
ते
तो
में
ची
पे
णा
नें
ना
का
की
दे
तू
ता
भी
को
हों
क्षा
त्रि
ती
त्ता
ष्टा
गु
पु
र्त
ति
र्त
रि
सु
री
ना
रु
टा
ती
रा
का
अं
नें
ता
वा
मा
रो
री
दी
पू
ता
शा
तां
श्व
कु
चि
तू
र्णि
क्ष
रि
था
नी
री
सा
रीं
हा
री
शि
सें
री
ला
री
मा
ते
री
शी
ती
द्वि
श्री
प्रा
श्री
वा
को
प्रा
हो
श्री
हो
त्या
मं
त्त
सा
प्त
कृ
री
ची
प्त
नो
त्या
त्र
ष्ट
त्य
भ्य
मा
द्द
ष्णा
ता
के
का
त्त
हा
दे
तें
हा
स्री
त्त
हे
शु
जा
का
का
ली
का
यं
हि
त्म्य
गु
पु
द्ध
र्य
त्व
ला
तु
ति
ला
ये
ने
रु
रा
ष्ट
री
चि
नो
वा
रे
ना
मृ
झा
ना
ता
तां
ने
हो
हा
मा
णा
वा
प्रे
त्ता
भा
नो
हो
पु
ता
पू
पू
भा
ते
तीं
नें
था
तें
चीं
में
नें
वें
हे
र्ती
ब्धि
र्ण
र्ति
वें
क्ष
क्षी
ठे
चिं
वा
वा
वा
का
चिं
ये
सं
सा
सा
दि
वी
ता
ची
प्ता
चा
त्त
चि
ष्ट
र्य
ता
थें
ण्मा
धि
ष्ट
गं
त्त
वि
का
वि
हे
वें
भा
तां
सा
हो
कां
सं
क्षी
ग्रं
सें
तां
सि
मा
श्वा
श्वा
दू
धे
दे
नि
सा
द्ध
ता
रि
सु
सु
ष्ट
सु
रि
तु
तो
श्च
धु
चि
कृ
सु
अं
शी
नी
हो
चे
धा
ये
खे
लौ
शी
ची
ला
हा
या
सं
हो
पा
ता
वृ
री
था
नी
री
सा
रीं
हा
री
शी
से
री
ला
री
मां
ते
री
शी
परमहंस परिव्राजकाचार्य श्रीवासुदेवानंदसरस्वती स्वामी महाराजकृत प्रश्नावली    << BACK